नार का सुर में मां काली और मां दुर्गा को दिया सम्मान


🔔Subscribe to Notifications

मुंबई,nknewsindia: कुलदीप कौशिक  ( Kuldeep kaushik ) द्वारा लिखित एवं निर्देशित 5 अगस्त, 2022 को रिलीज के लिए तैयार फिल्म 'नार का सुर' (Naar Ka Sur)

  आखिर है क्या? सवाल बहुत बड़ा है, लेकिन किसके लिए? इसका जवाब है, उनके लिए जिन्होंने इस कहानी को जिया है, या फिर उनके लिए जिन्होंने इस कहानी को जीवन दिया। या फिर उनके लिए जिनके लिए इस कहानी की रचना की गई। शायद सभी का नज़रिया अलग हो, लेकिन 'नार का सुर' की कहानी का महत्व सबके लिए एकसमान है। 

 यह भी पढ़ें:     नमस्ते वियतनाम महोत्सव में बॉलीवुड के ये सितारें करेंगे शिरकत


  यह भी पढ़ें:   Naar Ka Sur: महिला सशक्तिकरण का दिया संदेश


दरअसल, 'नार का सुर' किसी कहानी का शीर्षक मात्र नहीं है, बल्कि समाज के पुरुष प्रधान सोच पर एक प्रहार है। यह एक प्रयास है नारी को उचित सम्मान दिलाने का। एक मिसाल है बुराई पर अच्छाई की जीत का। एक उम्मीद है बेहतर समाज के निर्माण की। सच तो यह है कि 'नार का सुर' सिर्फ कागज़ों में कैद एक कहानी नहीं, बल्कि एक संपूर्ण जीवन दर्शन है।

  यह भी पढ़ें:    Gurmeet Ram Rahim की पैरोल खत्म , जेल जाने से पहले किया नया गाना रिलीज


'नार का सुर' कहता है कि नारी प्रतिबिंब है उस ब्रह्मांड शक्ति का, जिसके आंचल मे ना जाने कितने ही जीवन पल रहे हैं। हम अपने देश को भी भारत मां कहकर संबोधित करते हैं, क्योंकि एक मां से अधिक प्रेम अपनी संतान से कोई नहीं कर सकता। लेकिन, दुर्भाग्य है कि आज एक ओर जहां समाज मे हम नारी सम्मान की बातें करते हैं, नारी को देवी का स्वरूप मानते हैं, उसी समाज में कुछ ऐसे विक्षिप्त मानसिकता वाले लोग भी हैं जो अपनी आजादी के नाम पर हमारे देवी—देवताओ का मजाक बनाकर हमारी भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

  यह भी पढ़ें:   दीन दयाल अंत्योदय योजना तथा राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत IAS मोनिका प्रियदर्शिनी ने युवाओं के साथ की बातचीत


  विडंबना यह कि हमारे देश में ऐसी निम्न मानसिकता वाले लोगों का समर्थन करने वालों की भी कमी नहीं है जिससे ये समाज के नायक बन जाते हैं और हमारा युवा वर्ग, जो अपने इतिहास से अनभिज्ञ है, बिना किसी तथ्य को जाने इनका अनुसरण करने लग जाता है। जबकि, ऐसा नहीं होना चाहिए।

 यह भी पढ़ें:      दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने 'दिल्ली पुलिस सेवानिवृत्त राजपत्रित अधिकारी संघ' के साथ की बैठक


यदि हमने अपने शास्त्र, अपने देवी-देवताओं की गरिमा की सुरक्षा नहीं की तो आने वाला वक्त इतना भयावह होगा जिसकी कल्पना मात्र से ही ह्रदय कांप उठता है। इन सबका दुष्प्रभाव सबसे ज्यादा किस पर आएगा? हमारी माताओं— बहनों पर, हमारी नारियों पर। फिल्म ‘नार का सुर’ में मां काली और मां दुर्गा को पूरे सम्मान के साथ दिखाया और फिल्माया गया हैअगर हम खुद कुछ नहीं कर रहे तो कम से कम उनका समर्थन तो कर ही सकते हैं जो इस कार्य में पूर्ण रुप से प्रयासरत हैं।

 यह भी पढ़ें:     भवन निर्माण में ग्रीन हाउस के लिए जिंक प्रोडक्ट का हो रहा सफल प्रयोग :अशोक कुमार


फिल्म 'नार का सुर' की कहानी किसी से प्रार्थना नहीं करती कि आप नारी को सम्मान देकर उन पर उपकार कीजिए, अपितु यह कहानी नारी को उनकी शक्ति का एहसास दिलाती है कि अगर वह चाहे तो पलभर में समाज को सुधार सकती हैं, क्योंकि नारी में उस काली माता का वास है जिनके क्रोध को शांत करने के लिए स्वयं देवों के देव महादेव को उनके चरणो के नीचे आना पड़ा था।


 यह भी पढ़ें:    Classic Golf & Country Club ने की अपनी नई टीम लॉन्च

विकल्प आपके सामने है। अब निर्णय आपको लेना है कि आप किसके साथ हैं। समाज के ऐसे लोगों के साथ जो प्रतिपल आपकी भावनाओ का माखौल बना रहे हैं या फिर ‘नार का सुर’ के साथ जो नारी सम्मान और एक उत्तम समाज निर्माण के लिए प्रयत्नशील है।

 यह भी पढ़ें:    वीर लोरिक महोत्सव में लोक गायिका देवी ने दी शानदार प्रस्तुति

महिला सशक्तिकरण का मजबूत संदेश देने वाली फिल्म 'नार का सुर' 5 अगस्त, 2022 को रिलीज के लिए तैयार है। निर्माता सुनील तायल के साथ स्टेप बाय स्टेप हॉस्पिटैलिटी लिमिटेड और माया मूवीज द्वारा सह-निर्मित इस फिल्म का निर्देशन कुलदीप कौशिक ने किया है।  फिल्म के सह निर्माता विकास जैन है