मुबारकपुर डबास के लोगों ने किया संसद मांग पर धरना-प्रदर्शन



◆ गांव मुबारिकपुर डबास के निवासियों ने समस्याओं का समाधान नहीं होने के विरोध में संसद मांग पर धरना-प्रदर्शन किया

◆ केंद्रीय गृहमंत्री को ज्ञापन देकर उपराज्यपाल एवं संबंधित विभागों के अधिकारियों की शिकायत की

नई दिल्ली। चौगामा विकास समिति ने किराड़ी विधानसभा क्षेत्र के गांव मुबारिकपुर डबास की समस्याओं का समाधान नहीं होने के विरोध में आज संसद मार्ग पर धरना-प्रदर्शन किया। समिति के बैनर तले ग्रामीणों ने अपनी समस्याओं के संबंध में लिखी तख्तिया और राष्ट्रीय ध्वज हाथों में लेकर काफी देर तक केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार और उत्तरी दिल्ली नगर निगम के संबंधित विभागों के खिलाफ नारेेबाजी की।




धरना-प्रदर्शन के बाद समिति के महासचिव विजेंद्र सिंह डबास ने केंद्रीय गृहमंत्री को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में उन्होंने गांव की समस्याओं और गांव के प्रति उपराज्यपाल से लेकर समस्त विभागों के अधिकारियों के उपेक्षापूर्ण रवैये के संबंध में केंद्रीय गृहमंत्री को शिकायत की। उन्होंने कहा कि दीपावली के दिन ग्रामीण एक दीया गांव के प्रति अधिकारियों के दिमाग में छाए अंधेरे को दूर करने के लिए अपने प्रागंण में जलाएंगे।


इस मौके पर समिति के महासचिव विजेंद्र सिंह डबास ने कहा कि गांव मुबारिकपुर डबास के चारों ओर ही नहीं, बल्कि गांव की मुख्य सड़क व गलियों में भी बारिश का पानी जमा होता है। इस कारण गांव की अधिकांश गलियां व नालिया जर्जर हो चुकी है। गांव में स्थित नगर निगम स्कूल के सामने दो वर्ष से अधिक समय से सड़क टूटी होने के कारण बसें बंद हो गई है। लिहाजा गांव का दिल्ली के अन्य इलाकों से सड़क संपर्क से टूटा हुआ है और ग्रामीण बस सेवा जैसी मूलभूत सुविधा से वंचित है।


विजेंद्र सिंह डबास ने कहा कि गांव में वर्षों पहले खोला गया डाकघर बन्द कर दिया गया है। नगर निगम ने आयुर्वेदिक डिस्पेंसरी और हिंदी अकादमी ने लाइब्रेरी बंद कर दी है। गांव में प्रतिदिन पेयजल आपूर्ति नहीं होती है। गांव के पार्कों की दुर्दशा हो गई है। सामुदायिक केंद्र के माध्यम से ग्रामीणों को कोई सुविधा नहीं दी गई है। इस संबंध में उपराज्यपाल से लेकर सभी विभागों के अधिकारियों को पत्र व्यवहार के अलावा धरना-प्रदर्शन करके भी अवगत कराया जा चुका है, लेकिन गांव की सुध नहीं ली गई। इस कारण ग्रामीण नारकीय जीवन जीने को विवश है और इससे परेशान होकर उन्होंने आज केंद्रीय गृहमंत्री का दरवाजा खटखटाने का निर्णय लिया है, क्योंकि दिल्ली की समस्त व्यवस्था उनके अधीन है।

0/Post a Comment/Comments

DIFFERENT NEWS

EVENT FESTIVAL

EVENT FESTIVAL